Saturday, November 5, 2011

ग़ज़ल

दिल तोड़ चले जाने वाले, दिल सूना सा है बिन तेरे. 
दिल में बसते हो तुम ही तुम, दिल में क्यूँ फिर गम के डेरे. 

दिल याद करे फ़रियाद करे, दिल भूल नहीं सकता यारां,
दिल देख पुकार रहा तुझको, दिल ले स्मृतियों के फेरे.

दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे. 

दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे. 

दिल रोगी है, दिल योगी भी, दिल तेरे बिन हठयोगी भी,
दिल चाहे बस 'हबीब' का ये, दिल साथ रहें तेरे मेरे. 

********************

49 comments:

  1. sundar gazal ...
    laazawab sher ...
    दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.

    ReplyDelete
  2. दिल रोगी है, दिल योगी भी, दिल तेरे बिन हठयोगी भी,

    vaah.bahut hee khoob.

    ReplyDelete
  3. दिल तोड़ चले जाने वाले, दिल सूना सा है बिन तेरे.
    दिल में बसते हो तुम ही तुम, दिल में क्यूँ फिर गम के डेरे.

    sunder nazm..
    shubhkamnayen.

    ReplyDelete
  4. दिल याद करे फ़रियाद करे, दिल भूल नहीं सकता यारां,
    दिल देख पुकार रहा तुझको, दिल ले स्मृतियों के फेरे.bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  5. बहुत अच्छी अभिव्यक्ति,सुन्दर ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  6. वाह !दिल को सही आवाज़ दी है..बहुत सुन्दर लिखा है.बधाई.

    ReplyDelete
  7. गज़ब .....

    ''दिल है की मानता नहीं ''

    ReplyDelete
  8. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे.
    दिल बाग बाग हो उठा इस ग़ज़ल को गा कर।

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    देवोत्थान पर्व की शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. हबीब जी इस बार तो बस दिल ही दिल है .....

    और दिल का ऐतबार क्या कीजै ....

    :))

    ReplyDelete
  11. दिल नीर भरी बदली बहुधा
    वाह!
    सुन्दर अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  12. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे

    बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
  13. हठयोगी दिल से निकली सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  14. एक अच्छी और गहन रचना. की प्रस्तुति के लिए धन्यवाद । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  15. dil kuchh ankhi baaten...badhiya

    ReplyDelete
  16. दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.
    bahut sundar rachna..

    ReplyDelete
  17. दिल तोड़ चले जाने वाले, दिल सूना सा है बिन तेरे.
    दिल में बसते हो तुम ही तुम, दिल में क्यूँ फिर गम के डेरे. bhaut hi umda gazal...

    ReplyDelete
  18. "दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,"

    अत्यंत भावपूर्ण और सुंदर ग़ज़ल ! बधाई हबीब साहब ।

    ReplyDelete
  19. मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है,कृपया अपने महत्त्वपूर्ण विचारों से अवगत कराएँ ।
    http://poetry-kavita.blogspot.com/2011/11/blog-post_06.html

    ReplyDelete
  20. अत्यंत भावपूर्ण और सुंदर ग़ज़ल !

    ReplyDelete
  21. दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.

    बहुत खूब

    नीरज

    ReplyDelete
  22. दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.
    ...waah! bahut sundar

    ReplyDelete
  23. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे.

    ...दिल तो दिल है...बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  24. दिल रोगी है, दिल योगी भी, दिल तेरे बिन हठयोगी भी,
    दिल चाहे बस 'हबीब' का ये, दिल साथ रहें तेरे मेरे. ...

    बहुत खूब संजय जी ... गज़ब का शेर है ये ...

    ReplyDelete
  25. सुभानाल्लाह.........बहुत खूबसूरत लगी ग़ज़ल|

    ReplyDelete
  26. बेहतरीन शायरी कही है आपने , कहते रहे ऍम पढ़ते रहेंगे

    ReplyDelete
  27. दिल है कि मानता नही

    ReplyDelete
  28. jabardast dillagi he ye to dil ke sath....aakhir bechara dil hi to tha.

    :)

    jabardast gazal.

    ReplyDelete
  29. bahut sundar gajal hai
    har pankti me gahare bhav ka ahsas hai..

    ReplyDelete
  30. आपकी ये खूबशूरत गजल
    हर पन्तियो में दिल ही दिल ...सुंदर पोस्ट ,,,
    मेरे नए पोस्ट में स्वागत है

    ReplyDelete
  31. bahut khub....khubsurat gazal padhne ko mili ...aabhar

    ReplyDelete
  32. संजय हबीब भाई बहुत सुन्दर गजल आप की गुनगुनाने को मन कर दिया ....
    भ्रमर ५
    दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.

    दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे.

    आप आये ख़ुशी हुयी .आभार आप का ...अच्छा लगे तो अपना समर्थन भी दीजिये भ्रमर का दर्द और दर्पण को और सुझाव स्नेह भी
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  33. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे.

    बहुत हि सुन्दर गजल !

    ReplyDelete
  34. bahut achchi ghazal....dil ke kafi kareeb.

    ReplyDelete
  35. दिल ने कह दी दिल की बातें,ये दिल वो दिल है बाग बाग
    दो दिल मिल कर जब एक हुए,दिल से दिल कैसे मुँह फेरे.

    संजय भाई, दिल की गज़ल दिल को ऐसे छू गई कि दिल में कुछ-कुछ
    होने लगा है.बहुत खूब......

    ReplyDelete
  36. sunder likh habeeb bhai,yoo hi kalam se jadoo jagate rahiye
    aapka hi
    dr.bhoopendra
    rtewa mp

    ReplyDelete
  37. बेहतरीन गज़ल ने आनंदित कर दिया.

    ReplyDelete
  38. दिल है वैसा, दिल जैसा हो, दिल आसमान का इन्द्रधनुष,
    दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.

    वाह! दिल की बहुत खूबसूरत परिभाषा दी है आपने.
    सभी शेर खूबसूरत लगे

    ReplyDelete
  39. बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल लिखा है आपने ! बेहद पसंद आया ! बधाई!
    मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  40. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है कल शनिवार (12-11-2011)को नयी-पुरानी हलचल पर .....कृपया अवश्य पधारें और समय निकल कर अपने अमूल्य विचारों से हमें अवगत कराएँ.धन्यवाद|

    ReplyDelete
  41. दिल नीर भरी बदली बहुधा, दिल अंगारे भी बहुतेरे.

    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  42. bahut khoob !!
    khas taur par maqta achchha laga

    ReplyDelete
  43. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे.

    बहुत खूबसूरत गज़ल ... मन के सारे भाव ही उड़ेल दिए हैं ..

    ReplyDelete
  44. बहुत सुंदर गजल.बधाई..
    मेरे मुख्य ब्लॉग काव्यांजली में मेरी नई पोस्ट -वजूद-
    में आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  45. नमस्कार बहुत सुन्दर गजल दिल गा खुद को ------------------- मेरे ब्लाग पर भी आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  46. दिल गा खुद को बहलाता है, दिल रो कर थक सो जाता है,
    दिल भोर कभी उजला सा है, दिल रातों के भी अँधेरे।

    बहुत खूब।
    दिल की बात ही निराली है।

    ReplyDelete
  47. वाह!
    बेहतरीन गज़ल.
    दाद कबूल करें.

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...