Wednesday, July 11, 2012

ग़ज़ल

कुछ व्यस्तताओं के चलते अपनी लम्बी अनुपस्थिति के लिए स्नेही मित्रों से सादर क्षमायाचना, आप सबके सहृदय स्नेह के लिए सादर आभार सहित शुभाभिनंदन... शीघ्र ही आप स्नेही स्वजनों के साथ नियमितता पुनर्स्थापित हो जायेगी, इसी आशा शुभेक्षाओं के साथ प्रस्तुत है एक गजल....


घिर उमड़ते आये बादल आसमा पे छा गये। 
रंग चाहत का बदन पर रूह पर बरसा गये 

वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला ये 

जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये

क्यूँ पसे महमिल ही आए क्यूँ सबा भी दरमियाँ,  
लूटने फिर चैन दिल का कुछ सुकूँ छलका गये

इश्क भी है क्या 'हबीब' औहाम के किस्से नहीं?
अश्क में डूबे सुनहरे ख्वाब थे बिखरा गए 
______________________
शब्दार्थ - औहाम=भ्रांतियां
______________________  

37 comments:

  1. बेहतरीन गज़ल...
    दाद कबूल करें.......
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  2. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।...अरे वाह

    ReplyDelete
  3. क्यूँ पसे महमिल ही आए क्यूँ सबा भी दरमियाँ,
    लूटने फिर चैन दिल का कुछ सुकूँ छलका गये।..बहुत सुन्दर गजल..आभार

    ReplyDelete
  4. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वाह ... बेहतरीन

    ReplyDelete
  5. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।

    मिश्रा जी अचूक निशाना है आपका, सीधे जिगर के पार ...बहुत खूब !

    ReplyDelete
  6. आपकी प्रस्तुति का असर ।

    बनी है शुक्रवार की खबर ।

    उत्कृष्ट प्रस्तुति चर्चा मंच पर ।।

    आइये-

    सादर ।।

    ReplyDelete
  7. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    वाह ... बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  8. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    वाह ,,,,, बहुत सुंदर गजल ,,,,

    RECENT POST...: राजनीति,तेरे रूप अनेक,...

    ReplyDelete
  9. घिर उमड़ते आये बादल आसमा पे छा गये।
    रंग चाहत का बदन पर रूह पर बरसा गये।

    बहुत ही सुंदर भाव हैं गजल के हबीब भाई, एक-एक शेर में कसावट है। आभार

    ReplyDelete
  10. हबीब साहिब मजा आ गया

    ReplyDelete
  11. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।
    चाँद का मानवीकरण .चाँद के मथ्थे मढ़ दो अपनी तमाम उदासी ,तमाम वीरानी .बढिया गजल कही है आपने .

    ReplyDelete
  12. बया चहकती नीड़ में, चिड़िया मौज मनाय।
    पौध धान की शान से, लहर-लहर लहराय।

    ReplyDelete
  13. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    बेहतरीन ग़ज़ल !!!

    सादर

    ReplyDelete
  14. सभी शेर बहुत सुन्दर, बधाई.

    ReplyDelete
  15. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    खुबसूरत ग़ज़ल

    ReplyDelete
  16. ये अदा जो नज़र की,जन्नत-सी लागे है हुज़ूर
    रहिए बचके,पहले भी कितने हैं गच्चे खा गए!

    ReplyDelete
  17. आजकल तो बादलों के ही किस्से हैं हर जगह..

    ReplyDelete
  18. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।

    सुन्दर ग़ज़ल
    सादर

    ReplyDelete
  19. इश्क भी है क्या हबीब औहाम के किस्से नहीं?
    अश्क में डूबे सुनहरे ख्वाब थे बिखरा गए।

    क्या कहने..!
    इश्क और अश्क का गहरा नाता है।

    ReplyDelete
  20. प्रस्तुति अच्छी लगी। मेरे नए पोस्ट "अतीत से वर्तमान तक का सफर पर" आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  21. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये। ...

    बहुत खूब ... सुबह की कलरव तो आशा की फुहार लाती है तन्हाई कों मिटा देती है ... लाजवाब शेर है इस मुकम्मल गज़ल का ...

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर शेर ..लाजवाब..

    ReplyDelete
  23. बहुत ही प्रशंसनीय शेर।

    ReplyDelete
  24. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।
    वाह वाह अत्यन्त खूबसूरत भाव पूर्ण शेर.....
    सादर !!!

    ReplyDelete
  25. वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये..

    कमाल है , बधाई !

    ReplyDelete
  26. ग़ज़ल जब दिल से निकलती है, और सीधे दिल तक पहुंचती है, तो इसे मैं सफल ग़ज़ल मानता हूं। इस ग़ज़ल में वैसा ही कुछ खास है। और इस खास को खासमखास इस तरह की पंक्तियां बना देती हैं --
    “रंग चाहत का बदन पर रूह पर बरसा गये।”

    ReplyDelete
  27. वाह वाह... नायाब रचना, शुभकामनाएं.

    रामराम

    ReplyDelete
  28. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।

    जन्नत की सैर के लिए बधाइयाँ हबीब साहब ....:))


    लाजवाब..!!

    ReplyDelete
  29. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    ....बहुत खूब! बेहतरीन गज़ल...

    ReplyDelete
  30. ग़ज़ल का मज़ा ऐसे ही तो आता है !

    ReplyDelete
  31. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।
    लाजवाब!!

    ReplyDelete
  32. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।

    बहुत सुन्दर भाव

    ReplyDelete
  33. जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।
    क्या लिखते हैं कमाल कर देतें हैं हबीब साहब ,लेखनी का जादू गजल बनके बोलता है ...रिवार्बरेट करता है अनुगूंज बाकी है जो पढ़ा है ....

    ReplyDelete
  34. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    जिंदगी के पार ज़न्नत की फ़ज़ाएँ थी सुनी,
    वह झुकाये आँख ज़न्नत की अदा दिखला गये।

    बिलकुल नायाब प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  35. वो तड़पना चाँद का रातों की तनहाई तले,
    भोर के पंछी चहकते गीत गा फुसला गये।

    लाजवाब हबीब साहब ....!!

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...