Saturday, September 11, 2010

"गणपति बप्पा मोरया"

*************************************
******************************************
गणपति बप्पा मोरया, ह्रदय बसो मोरे आन।
बुद्धि, विवेक प्रदाय करो, विघ्न हरो भगवान्॥
******************************************
सभी स्वजनों को गणपति बप्पा के पावन आगमन की हार्दिक हार्दिक, बधाइयां और शुभकामना कि "मंगलकर्ता, विघ्नहर्ता, प्रथम पूज्य , गौरीनंदन गणेश सभी के जीवन को खुशियों से परिपूर्ण करें।"
*****************************************

5 comments:

  1. हबीब भाई, गणेश पूजा की आपको बहुत बहुत बधाई।

    आपके एक्वेरीयम की मछलीयाँ मुझे पहचानती हैं। जैसे ही मैं ब्लाग पर आता हूँ मेरे ईर्द-गिर्द चक्कर काट्ने लगती हैं। हा हा हा दाने खिलाने पर ही पीछा छोड़ती हैं। बड़ा सूकून मिलता है मुझे। गोल्डन फ़िश और ग्रीन फ़िश मुझे कुछ ज्यादा चुलबुली लगीं। लेकिन हैं बहुत खुबसूरत जरा देखिएगा आप भी।

    और मौका मिले तो दाने डालते रहिए। शबाब का काम है मछलियों को दाना चुगाना।

    ReplyDelete
  2. शब्‍द और चित्र, सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  3. ग्राम चौपाल में तकनीकी सुधार की वजह से आप नहीं पहुँच पा रहें है.असुविधा के खेद प्रकट करता हूँ .आपसे क्षमा प्रार्थी हूँ .वैसे भी आज पर्युषण पर्व का शुभारम्भ हुआ है ,इस नाते भी पिछले 365 दिनों में जाने-अनजाने में हुई किसी भूल या गलती से यदि आपकी भावना को ठेस पंहुचीं हो तो कृपा-पूर्वक क्षमा करने का कष्ट करेंगें .आभार


    क्षमा वीरस्य भूषणं .

    ReplyDelete
  4. भैया आपको भी गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनायें.............!!

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...