Sunday, March 25, 2012

गजल

ख्वाब देखा जो पल में बिखर जाएगा।  
छोड़ कर अपना घर तू किधर जाएगा।1।  

बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।

इम्तहां रोजो शब जिंदगी लेती है,  
आग में बन तू कुन्दन संवर जाएगा।3।  

बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।

दो घड़ी होती रौशन शमा तारीकी,                   
सुब्ह होते अन्धेरा गुजर जाएगा।5।

अक्स आईने में जो कभी देखा तो,  
आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा।6।

मुद्दते गुजरीं खो कर 'हबीब' आफियत,   
ले के खुशियाँ तू कब अपने द जाएगा।7।

**************************
शब्दार्थ : रोजो शब = दिन रात | शामअ तारीकी = अंधेरों का चराग | आफियत = सुकून 
**************************
शब्दार्थ नहीं दे पाने की भूल हेतु सम्माननीय मित्रवृन्द से क्षमायाचना सहित...
सादर.   

43 comments:

  1. vakt har jakhm ko bhar deta hae yah shi hae par tees baki hi rahti hae.aabhr sarthak post hetu.

    ReplyDelete
  2. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।

    ...बहुत खूब! बहुत सुंदर गज़ल...

    ReplyDelete
  3. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा

    बहुत खूब..

    ReplyDelete
  4. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4। waah

    ReplyDelete
  5. इम्तहां रोजो शब जिंदगी लेती है,
    आग में बन तू कुन्दन संवर जाएगा।3।
    वाह... हर एक शेर लाजवाब है... बहुत सुन्दर ग़ज़ल... आभार

    ReplyDelete
  6. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा ...

    वाह .. क्या शेर कहा है ... लाजवाब ... समय सब कुछ हल कर देता है ...

    ReplyDelete
  7. अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा।.....
    हबीब साहब, शानदार गजल।

    ReplyDelete
  8. वक़्त ही उलझनों को कुतर देता है पर हम ये ही भूल जाते हैं..बेहद खुबसूरत..

    ReplyDelete
  9. अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा।6।
    बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।
    एक से बढ़के एक अशआर हबीब साहब सभी अपना अलग असर अलग तासीर लिए हुए .बढ़िया गज़ल .

    ReplyDelete
  10. जिन्दगी के मायने समझाते खूबसूरत अलफ़ाज़ ...
    मुबारक कबूल करें!

    ReplyDelete
  11. बहुत ही बढ़िया और अर्थपूर्ण गजल है.....

    ReplyDelete
  12. बात दिल में जो है वो रहे दिल में ही ।

    पर भाई कभी कभी कहना भी पड़ता है ।

    सार्थक ।

    गुनगुनाने में मजा आ गया

    ReplyDelete
  13. ख्वाब देखा जो पल में बिखर जाएगा।
    छोड़ कर अपना घर तू किधर जाएगा।1।

    jalan si hoti aapake shabdon ke chunaw
    ko dekhakar dil ko chune wali likhate hain.

    ReplyDelete
  14. एक एक शेर बहुत गहरी बात कह रहा है ...!!
    गहन मन के भाव ...बहुत सुंदर शायरी ...!!

    ReplyDelete
  15. एक बेहतरीन गज़ल जिसमें सभी शे’र लजवाब हैं।
    मुझे इस शे’र ने काफ़ी प्रेरित किया। मैं ऐसा ही करता हूं --
    बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।

    ReplyDelete
  16. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।

    Wah ...Khoob likha hai....

    ReplyDelete
    Replies
    1. इम्तहां रोजो शब जिंदगी लेती है,
      आग में बन तू कुन्दन संवर जाएगा।3।
      इस शेर में 'रोजो शब ' का तथा दो घड़ी होती रौशन शमा तारीकी,
      सुब्ह होते अन्धेरा गुजर जाएगा।5।
      में ज़नाब 'तारीकी ' का अर्थ भी बतलाइयेगा .
      फादर साहब थे ,उनसे पूछ लेते थे .

      Delete
  17. बहुत बढ़िया,बेहतरीन करारी अच्छी प्रस्तुति,..
    नवरात्र के ४दिन की आपको बहुत बहुत सुभकामनाये माँ आपके सपनो को साकार करे
    आप ने अपना कीमती वकत निकल के मेरे ब्लॉग पे आये इस के लिए तहे दिल से मैं आपका शुकर गुजर हु आपका बहुत बहुत धन्यवाद्
    मेरी एक नई मेरा बचपन
    कुछ अनकही बाते ? , व्यंग्य: मेरा बचपन:
    http://vangaydinesh.blogspot.in/2012/03/blog-post_23.html
    दिनेश पारीक

    ReplyDelete
  18. पूरी गज़ल ही लाजवाब है.
    बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।
    इस शेर पर खास दाद कबूल फरमायें.

    ReplyDelete
  19. अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा।6।..वाह: बहुत खूब लिखा है...बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  20. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर की गई है।
    चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्टस पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं....
    आपकी एक टिप्‍पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    ReplyDelete
  21. अनुभव की बातें हैं।

    ReplyDelete
  22. पुन:

    अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा.

    खींच लूँ चित्र मैं, कैमरे से तेरा
    क्या भरोसा तेरा, कल मुकर जायेगा

    ReplyDelete
  23. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  24. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।
    वाह !!! बहुत खूब लिखा है आपने बहुत सुंदर भाव अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  25. सुन्दर शब्द सटीक अभिव्यक्ति।

    बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।

    ReplyDelete
  26. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा ...

    पूरी ग़जल लाजवाब...
    सादर

    ReplyDelete
  27. बहुत ही अच्छी प्रस्तुति । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  28. "बात दिल में जो है वो रहे दिल में ही" सहने की शक्ति हो तो, वरना कह देना ठीक है। दिक्कत तो हम जैसों को होती है कि न सहने की शक्ति है और न कहने की।
    गज़ल पसंद आई जनाब। आभार स्वीकार करें।

    ReplyDelete
  29. बढ़िया ग़ज़ल... हर शेर जानदार

    ReplyDelete
  30. बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।
    ...बेहतरीन शेर।

    ReplyDelete
  31. विश्वास और सन्देश, बहुत अर्थपूर्ण शेर...

    बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।

    मीठे बोल से हर कोई अपना बन जाता है. सभी शेर मुकम्मल, दाद स्वीकारें.

    ReplyDelete
  32. bahut hi saarthk aur sundar rachna!

    ReplyDelete
  33. अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा

    बेहतरीन !

    ReplyDelete
  34. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।
    बहुत खूबसूरत ।

    ReplyDelete
  35. अक्स आईने में जो कभी देखा तो,
    आदमी अपनी सूरत से डर जाएगा
    बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  36. बहुत ही सुंदर गजल बनी है, मुझ जैसे बेसुरे ने भी गाकर देखा। मजा आ गया

    ReplyDelete
  37. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।
    ek bar nahin bar bar gungunane ko ji karata hai.

    ReplyDelete
  38. बहुत ही खूबसूरत गज़ल। ये शेर बहुत भाया -
    "बात दिल में जो है दिल में ही रहने दे,
    वक्त खुद सारी उलझन कुतर जाएगा।4।"
    वाह !

    ReplyDelete
  39. बोल कर मीठी बोली बुला उसको तू,
    साया बन राहों में वो उतर जाएगा।2।

    waah1 bahut hi achha likha hai

    shubhkamnayen

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...