Wednesday, August 15, 2012

जयहिंद!

समस्त सम्माननीय मित्रों को स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक बधाईयों सहित एक नज़्म सादर समर्पित...

झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।       
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

जुल्म सह भी माथ पर आने नहीं दी सलवटें,           
वीर पूतों ने लुटा दी जिंदगी की दौलतें,
वीर गाथाओं से इसकी कौन जो अनजान है।
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

यह लहर लहरा गगन में खोल बाहें जब तनें,
दुश्मनों की भीत से थमने लगें तब धड़कनें,
दुश्मनों पर गाज है जो हिन्द को वरदान है।
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

छांव में इसके सिपाही जोश में भर बढ़ रहे,   
तीन इसके रंग अपनी आप उपमा गढ़ रहे,  
वीरता की, धीरता की, शांति की पहचान है।
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

लें कसम हम आज इस दम जब तलक है दम में दम,
शान भारत की बढ़ाते जाएँगे मिल आप हम
आँख जब तक हैं खुलीं साँसों में हिंदुस्तान है।
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।       
यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

______________ जय हिंद ________________

48 comments:

  1. झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।
    बहुत सुन्दर भाव... स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ...जय हिंद

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर और सार्थक भाव व्यक्त
    करती रचना...
    स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये
    :-)

    ReplyDelete
  4. वे क़त्ल होकर कर गये देश को आजाद,
    अब कर्म आपका अपने देश को बचाइए!

    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाए,,,,
    RECENT POST...: शहीदों की याद में,,

    ReplyDelete
  5. तिरंगे की आन बान और शान कायम रहे.....
    सुन्दर रचना...
    स्वतन्त्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ
    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  6. वीरता की, धीरता की, शांति की पहचान है।

    हर एक शब्द भावों की चासनी में डुबोया हुआ ||
    बधाई संजय जी ||

    ReplyDelete
  7. सदा बना रहे देश की शान तिरंगे का मान ...... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. धरती से अंतरिक्ष तक तिरंगा लहराए शान से और मान से...शुभकामनाएँ !!

    ReplyDelete
  9. संजय जी, आपके इस गीत को पढकर सिर स्वयं श्रद्धा से झुक जाता है!! शुभकामनाएँ आपको भी!!

    ReplyDelete
  10. आज 16/08/2012 को आपकी यह पोस्ट (संगीता स्वरूप जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. यसवंत जी के माध्यम से आपके ब्लॉग तक पहुंची ...

    स्वतन्त्रता दिवस को समर्पित जोश दिलाती नज़्म ....

    आभार ...!!

    ReplyDelete
  12. सार्थक रचना... स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाये

    ReplyDelete
  13. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  14. यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है............. really.

    ReplyDelete
  15. देशप्रेम से परिपूर्ण भाव वाले गीत और कवितायें गुनगुनाना ...मुझे वर्तमान रानजीति से पनपे तनावों से मुक्ति दिलाते हैं.

    आपका बहुत-बहुत आभार.

    ReplyDelete

  16. झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।
    बिल्कुल

    ReplyDelete
  17. यह जज्बा बना रहे.अच्छी लगी कविता.

    ReplyDelete
  18. सच कहा है ... तिरंगा हमारी शान है ... ये है तो हमारी जान है ...
    जोश और उमंग भरी रचना ... आपको १५ अगस्त की बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  19. झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है|

    बहुत ही सुन्दर और जोश से भरी रचना....

    ReplyDelete
  20. अच्छी लगी रचना.. जयहिंद!

    ReplyDelete
  21. उत्कृष्ट प्रस्तुति शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
  22. आँख जब तक हैं खुलीं साँसों में हिंदुस्तान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

    बहुत सुंदर पंक्तियाँ...प्रभावशाली लेखन !

    ReplyDelete
  23. एक सशक्त और बेहतरीन देशभक्ति का गीत जिसे महत्वपूर्ण अवसरों पर गाया जा सकता है।

    ReplyDelete
  24. बना रहे तिरंगा
    कि बचे रहें हम

    ReplyDelete
  25. मन में जोश और सुकून पहुंचाने वाला गीत ... बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  26. यकीन मानिए हबीब साहब इस झंडा गीत पर जो गेयता अर्थ बोध व्यंजना और वतन के लिए एक छटपटाहट लिए है एक पीर लिए है ,जोश लिए है हमने कल भी टिपण्णी की थी लगता है स्पैम बोक्स में गई .अब गई सो गई ,उसका रोना क्या है .

    ReplyDelete
  27. तिरंगा हमारी शान है !
    जय हिंद !
    गीत ने देश के प्रति भावनाओं को अभिव्यक्ति दी !

    ReplyDelete
  28. वाह....
    देश प्रेम से ओत-प्रोत लयबद्ध एक सुंदर मनमोहक रचना ..

    ReplyDelete
  29. वाह हबीब जी देशभक्ति से सराबोर गीत पढ़कर मजा आ गया बहुत सुन्दर लिखा है हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  30. खूबसूरत पंक्तियाँ !

    ReplyDelete
  31. वाह ... बहुत खूब

    ReplyDelete
  32. बहुत ओजपूर्ण प्रेरक प्रस्तुति॰...

    ReplyDelete
  33. तिरंगा यूँ ही लहराता रहे।

    ReplyDelete
  34. हमारे तिरंगे को समर्पित सार्थक रचना.

    ReplyDelete
  35. देश और तिरंगा हमारे शान...
    झुक नहीं सकता कभी भी मान यह अभिमान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

    जय भारत!

    ReplyDelete
  36. आपकी किसी पुरानी बेहतरीन प्रविष्टि की चर्चा मंगलवार २८/८/१२ को चर्चाकारा राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी मंगल वार को चर्चा मंच पर जरूर आइयेगा |धन्यवाद

    ReplyDelete
  37. छांव में इसके सिपाही जोश में भर बढ़ रहे,
    तीन इसके रंग अपनी आप उपमा गढ़ रहे,
    वीरता की, धीरता की, शांति की पहचान है।
    यह तिरंगा ही हमारी शान है और जान है।

    भारतवर्ष...जिंदाबाद।

    ReplyDelete
  38. जी संजय जी |
    शुभकामनायें ||

    ReplyDelete
  39. सुंदर भावपूर्ण अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  40. namskar,
    kafi samy uprant blog pe aya --- yakin maniye aap ki lekhni mai jadu hai

    ReplyDelete



  41. ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~दीपावली की मंगलकामनाएं !~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    सरस्वती आशीष दें , गणपति दें वरदान
    लक्ष्मी बरसाएं कृपा, मिले स्नेह सम्मान

    **♥**♥**♥**● राजेन्द्र स्वर्णकार● **♥**♥**♥**
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ


    ReplyDelete

  42. अच्छ गीत है भाई !

    …लेकिन ,
    इतने दिन से नई रचना क्यों नहीं ???

    ReplyDelete
  43. आपका पोस्ट पढ़कर अच्छा लगा। मेरे नए पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा।

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...