Friday, November 25, 2011

...जिन्दगी चलती रहे !

जाने क्या था
उन उंगलियों की
हरकत में...
कि जमीन का सीना फाड़कर
सैकड़ों बिजलियाँ
मानों एक साथ
आसमान की ओर लपकीं...
सिमटते धूप का जिस्म
जर्रे जर्रे होकर बिखर गया
दूर तक,
जगमगाने लगा
हर तरफ रक्तिम अंधियारा...
चीखों के बाजार सज गये...
मुर्दा अहसासों के उपर
जिन्दा चीखों के बाजार...
बाजार...!!
जिसका कोई पारावार नहीं...
बाजार...!!
जहां कोई खरीददार नहीं...

दूर क्षितिज के पास
बूढ़ा सूरज
समेट रहा है
क्षत-विक्षत घूप के
जख्मी टुकड़े...
कि कल फिर
पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...
कि जिन्दगी चलती रहे...
छुपी उंगलियों की वहशियाना हरकतों,
जगमगाते रक्तिम अंधियारों,
और चीखों की
जिन्दा बाजारों के बीच
सांसे पलती रहें...
कि जिन्दगी चलती रहे...!!

***********************************************************
************************************************************

41 comments:

  1. आपने रौगटे खडे करने वाला सच कह दिया…………बेहतरीन

    ReplyDelete
  2. दर्द भरे शब्दों से सजी लेखनी

    ReplyDelete
  3. दूर क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    कि कल फिर
    पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...दर्द के खून से सराबोर श्रद्धांजली या सिसकियाँ

    ReplyDelete
  4. कि कल फिर
    पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...
    कि जिन्दगी चलती रहे...
    आह!

    ReplyDelete
  5. प्रासंगिक एवं ह्रदयविदारक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  6. मार्मिक भाव.... गहरी बात लिए रचना

    ReplyDelete
  7. दूर क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े..
    संजय भाई, बिल्कुल ही नये अंदाज में पीड़ा का चित्र खींचा है.

    ReplyDelete
  8. र क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    अद्भुत बिम्ब योजना द्वारा आपने जीवन के कुछ जटिल प्रश्नों को सामने रखा है।

    ReplyDelete
  9. भावनाओं को व्‍यक्‍त करता सशक्‍त लेखन ।

    ReplyDelete
  10. मार्मिक पर सत्य से लबरेज

    ReplyDelete
  11. दूर क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    कि कल फिर
    पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...

    सुभानाल्लाह........दिल जीत लेने वाली पोस्ट............बहुत पसंद आई|

    ReplyDelete
  12. भावपूर्ण रचना बहुत सुंदर बधाई....
    नई पोस्ट में आपका स्वागत है..

    ReplyDelete
  13. रक्तिम अंधियारे का भयावह सच..

    ReplyDelete
  14. बेमिसाल शब्द और लाजवाब भाव...उत्कृष्ट रचना

    नीरज

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब,हबीब भाई.

    शानदार अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  16. meree pichhli tippni bhi aap ke gmail mein padee huee hogee.google baba ki jai.

    ReplyDelete
  17. गहन भाव समेटे रचना के लिए बधाई |
    आशा

    ReplyDelete
  18. संजय जी ,
    इस रचना पर क्या लिखूं ? ऐसा लग रहा है की दृश्य सामने उपस्थित हो गया हो ..नि:शब्द हूँ ..

    ReplyDelete
  19. .


    प्रिय भाई संजय मिश्र 'हबीब'जी
    सस्नेहाभिवादन !

    मर्मस्पर्शी रचना -
    दूर क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    कि कल फिर
    पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...
    कि जिन्दगी चलती रहे...

    भाव पक्ष का चरम छूती हुई इस रचना के लिए साधुवाद !

    मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  20. उँगलियाँ ही बटन दबाती हैं, उन्हें पता नहीं होता कि वे क्या करने जा रही हैं - बेहद भाव प्रवण प्रस्तुति

    ReplyDelete
  21. गहरे भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने! बधाई!

    ReplyDelete
  22. बहुत रोचक और सुंदर प्रस्तुति.। मेरे नए पोस्ट पर (हरिवंश राय बच्चन) आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  23. That was so sweet. Excellent piece of writing.

    From everything is canvas

    ReplyDelete
  24. बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    कि कल फिर
    पैबन्दों से लबरेज उजाला ला सके...
    कि जिन्दगी चलती रहे...

    नए बिंबों का प्रयोग कविता को नया आयाम दे रहा है।

    सुंदर कविता के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  25. एक सच बयान करती हुई ये बेहतरीन रचना रोंगटे खड़े कर देती है

    ReplyDelete
  26. मुर्दा अहसासों के उपर

    जिन्दा चीखों के बाजार...
    बाजार...!!
    जिसका कोई पारावार नहीं...
    बाजार...!!
    जहां कोई खरीददार नहीं...
    एक बहुत अच्छी रचना....

    ReplyDelete
  27. sanjay bhai bahut achhaa likh rahe ho sach batata hoon mja aa gya bhi ..........

    ReplyDelete
  28. बाकियों के लिए जीवन चलता ही रहता है। बस,जो नहीं हैं सो नहीं हैं। जो होते हैं,वे भी कसक लिए ही जी पाते हैं।

    ReplyDelete
  29. कल 30/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, थी - हूँ - रहूंगी ....

    ReplyDelete
  30. बड़ी हाहाकारी कविता है अंधियारों की चीख लिए

    ReplyDelete
  31. दूर क्षितिज के पास
    बूढ़ा सूरज
    समेट रहा है
    क्षत-विक्षत घूप के
    जख्मी टुकड़े...
    कि कल फिर... जिंदगी चलती रहे

    इंसान की हैवानगी
    हमेशा ही इंसानियत का नुकसान कर जाती है
    और इंसान
    हर अच्छा इंसान..
    अपने अपने तरीकों से
    उसकी भरपाई करने में लगा रहता है
    हमेशा ही ....

    ReplyDelete
  32. rom -rom me romanch bhar diya..
    bahut hi behtarin rachna...!

    ReplyDelete
  33. इस भावपूर्ण अभिव्‍यक्ति में हम आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  34. गहरे भाव और सुन्दर अभिव्यक्ति..बेमिशाल प्रस्तुति के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  35. भाई संजय जी बहुत सुन्दर कविता बधाई और शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  36. bahut hi acchi or sundar rachana hai...

    ReplyDelete
  37. निशब्द !स्तब्द !
    शुभकामनाएँ! खुश रहिए|

    ReplyDelete
  38. बेहतरीन सुन्दर भावो की अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  39. बहुत संवेदना और क्षोभ है इस रचना में ... जो कुछ हद तक वर्तमान दशा की हाताषा भी दिखलाती है ...

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...