Friday, December 30, 2011

स्वागत नवागत -2 (दोहे)

समस्त सम्माननीय सुधि स्वजनों को नूतन वर्ष की सादर बधाईयाँ.....

**************************  
घट आया घट काल का, घटक गये सब रीत |.
स्वागत और विदाइयां, यह घट-घट की रीत.||

गया बरस प्यारा बड़ा, कुछ बाकी व्यौहार |
नया बरस चौखट खडा, गूंजत द्वाराचार.||

नई राह, नव चाह ले, नया नित्य उत्साह |
संगी सब ही संग हों, अरु साधें सद राह ||

मान, मेट मनभेद सब, मंतर जान महान |
एका से ताकत बढे, यही दिलाए मान ||

सदभावों की जोत ले, करें सुवागत आज |
अपनी पांखें तोल कर, भरें नया परवाज || 

पावन क्षण, मन माँगता, प्रभु से आज हबीब |
मृदु पुष्पित पथ हों सदा, दुख न आये करीब|| 
************************** 
शान्ति, सद्भाव और समृद्धि का पर्याय बने नया वर्ष... आमीन.
************************** 
 

43 comments:

  1. मान, मेट मनभेद सब, मंतर जान महान |
    एका से ताकत बढे, यही दिलाए मान || ..

    उन्नत दर्ज़े के दोहों के लिये आपको हार्दिक बधाइयाँ.
    .. . नया वर्ष शुभकारी हो .. .

    -सौरभ पाण्डेय, नैनी, इलाहाबाद (उप्र)

    ReplyDelete
  2. नये साल की ढेरो शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  3. वाह.....हिट्स ऑफ है आपको.....वाकई दोहे लिखना बहुत मेहनत का काम है और वो भी इतने सुन्दर.........नव वर्ष कि शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  4. गया बरस प्यारा बड़ा, कुछ बाकी व्यौहार |
    नया बरस चौखट खडा, गूंजत द्वाराचार.||

    उत्कृष्ट नव वर्ष स्वागत दोहे ....!!
    अनुपम रचना ...कोई शब्द नहीं मिल रहे हैं तारीफ़ के लिए ....!!
    नव वर्ष की आप को बहुत शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  5. शानदार दोहे…………आगत विगत का फ़ेर छोडें
    नव वर्ष का स्वागत कर लें
    फिर पुराने ढर्रे पर ज़िन्दगी चल ले
    चलो कुछ देर भरम मे जी लें

    सबको कुछ दुआयें दे दें
    सबकी कुछ दुआयें ले लें
    2011 को विदाई दे दें
    2012 का स्वागत कर लें

    कुछ पल तो वर्तमान मे जी लें
    कुछ रस्म अदायगी हम भी कर लें
    एक शाम 2012 के नाम कर दें
    आओ नववर्ष का स्वागत कर लें

    ReplyDelete
  6. बढ़िया दोहे लिखे हैं आपने !
    बहुत सुन्दर !
    नव वर्ष की बधाई !

    ReplyDelete
  7. दोहे लिखना सब के बस की बात नहीं !
    आपके इस कला को मेरा नमन !

    ReplyDelete
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति....नववर्ष आगमन पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर दोहे है जी.
    शानदार प्रस्तुति के लिए आभार.

    मैं दुआ और कामना करता हूँ की आनेवाला नववर्ष आपके हमारे जीवन
    में नित खुशहाली और मंगलकारी सन्देश लेकर आये.

    नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ.

    समय मिलने पर मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.

    ReplyDelete
  10. बहुत खूब कहा है आपने
    नववर्ष की अनंत शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर दोहे....नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  12. सदभावों की जोत ले, करें सुवागत आज |
    अपनी पांखें तोल कर, भरें नया परवाज ||

    पावन क्षण, मन माँगता, प्रभु से आज हबीब |
    मृदु पुष्पित पथ हों सदा, दुख न आये करीब||
    बहुत सुंदर,नववर्ष की आपको बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  13. आपका पोस्ट बहुत ही अच्छा लगा .। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाए ।

    ReplyDelete
  14. प्रभु हमें पावन क्षण ही देते है सदा . सुन्दर कामना है . हर क्षण मंगलमय हो..

    ReplyDelete
  15. सुन्दर कामना
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें
    vikram7: आ,साथी नव वर्ष मनालें......

    ReplyDelete
  16. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  17. नव वर्ष की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    ReplyDelete
  18. ▬● अच्छा लगा आपकी पोस्ट को देखकर... साथ ही यह ब्लॉग देखकर भी अच्छा लगा... काफी मेहनत है इसमें...
    नव वर्ष की पूर्व संध्या पर आपके लिए सपरिवार शुभकामनायें...

    मेरे ब्लॉग्स की तरफ भी आयें तो मुझे बेहद खुशी होगी...
    [1] Gaane Anjaane | A Music Library (Bhoole Din, Bisri Yaaden..)
    [2] Meri Lekhani, Mere Vichar..
    .

    ReplyDelete
  19. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ......

    ReplyDelete
  20. पावन क्षण, मन माँगता, प्रभु से आज हबीब |
    मृदु पुष्पित पथ हों सदा, दुख न आये करीब||

    आपकी सदिच्छा में हम भी शामिल हैं! तथास्तु!
    नववर्ष मंगलमय हो!

    ReplyDelete
  21. वाह,
    नववर्ष पर संदेशात्मक सुंदर दोहे।

    ReplyDelete
  22. आपको भी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  23. बहुत बढ़िया प्रस्तुति.... नववर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ......

    ReplyDelete
  24. बहुत ही सुन्दर ..आपको भी नववर्ष की शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  25. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    इस रिश्ते को यूँ ही बनाए रखना,
    दिल मे यादो क चिराग जलाए रखना,
    बहुत प्यारा सफ़र रहा 2011 का,
    अपना साथ 2012 मे भी इस तहरे बनाए रखना,
    !! नया साल मुबारक !!

    आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया, आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ, एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से नया साल मुबारक हो ॥


    सादर
    आपका सवाई सिंह राजपुरोहित
    एक ब्लॉग सबका

    आज का आगरा

    ReplyDelete
  26. नव वर्ष की अनंत शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  27. बहुत ही सुन्दर सन्देश देते ये दोहे!! नववर्ष मंगलमय हो आपके तथा आपके परिवार के लिए!!

    ReplyDelete
  28. behtareen prastuti.
    नव वर्ष मंगलमय हो !
    बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  29. वाह बहुत खूबसूरत प्रस्तुति
    नववर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  30. सदभावों की जोत ले, करें सुवागत आज |
    अपनी पांखें तोल कर, भरें नया परवाज ||

    बहुत शानदार दोहे हैं... कामनाओं से ओतप्रोत...
    नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  31. नवा बछर के गाड़ा गाड़ा बधई

    ReplyDelete
  32. बहुत सटीक दोहे। नववर्ष की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  33. आपको एवं आपके परिवार के सभी सदस्य को नये साल की ढेर सारी शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  34. घट आया घट काल का, घटक गये सब रीत |.
    स्वागत और विदाइयां, यह घट-घट की रीत.||

    दिल से दें शुभकामना , संजय मिश्र 'हबीब'
    फिर कैसे जागें नहीं , किसके भला नसीब.

    दोहे बिगुल बजा रहे , शब्द फूँकते शंख
    भाव - पखेरू उड़ चले , फैला कर नव-पंख.

    ReplyDelete
  35. बहुत बढि़या दोहे....
    आपको एवं आपके परिवार को नए वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  36. बहुत शानदार दोहे.
    नववर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  37. दोहावली में प्रस्तुत
    सटीक और सार्थक विचारों से
    अवगत करवाने के लिए
    धन्यवाद .

    ReplyDelete
  38. नव वर्ष पर बहुत सुन्दर और सार्थक सन्देश देते दोहे ... नव वर्ष की शुभकामनायें

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...