Wednesday, October 19, 2011

ग़ज़ल

लहरों की मत रफ़्तार देख |
अपने बाजू हर बार देख |

थमने की बातें भी न सोच,
ठहरा है कब संसार देख |

रिश्तों में प्रीत रही न आज,
चलता है सब व्यापार देख |

करता है ऐश लूट कर मुल्क,
तिहाड़ में खुश गद्दार देख |

हत्यारे यां रहें बा चैन,
लीला यह अपरम्पार देख |

भूखे मेहनतकश ! धिक्कार!
मौज में सब गुनहगार देख |

चुभते से प्रश्न कभी न पूछ,
हबीब है कब अधिकार देख |


*********************



33 comments:

  1. मौज में सब गुनहगार देख |

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
    मेरी बधाई स्वीकार करें ||

    ReplyDelete
  2. यथार्थ चित्रित करती गज़ल!

    ReplyDelete
  3. लहरों की मत रफ़्तार देख |
    अपने बाजू हर बार देख |

    बेहद सुंदर पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  4. बहुत उम्दा ग़ज़ल.....

    ReplyDelete
  5. उम्दा लिखा है..बधाई.

    ReplyDelete
  6. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  7. भूखे मेहनतकश ! धिक्कार!
    मौज में सब गुनहगार देख |
    सारे शेर अच्छे हैं मगर ये शेर ख़ास है..... अच्छी रचना का आभार !

    ReplyDelete
  8. चुभते से प्रश्न कभी न पूछ,
    हबीब है कब अधिकार देख |
    .... behad achhe bhaw

    ReplyDelete
  9. रचना चर्चा-मंच पर, शोभित सब उत्कृष्ट |
    संग में परिचय-श्रृंखला, करती हैं आकृष्ट |

    शुक्रवारीय चर्चा मंच
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  10. करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |

    वाह...बहुत खूब

    ReplyDelete
  11. एक ही हादसा तो है हिंदूस्तान में
    कि बात नही पूछी गयी
    और बात नही सुनी गयी

    ReplyDelete
  12. हां,हमारा समय ऐसा ही है।

    ReplyDelete
  13. वाह ..बहुत सुन्दर
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  14. रिश्तों में प्रीत रही न आज,
    चलता है सब व्यापार देख |

    करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |

    gazab kii abhivyakti.....bahut khub

    ReplyDelete
  15. करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |
    kya likha hai kamal bahut bahut sunder gazal
    rachana

    ReplyDelete
  16. आपका पोस्ट अच्छा लगा । धन्यवाद । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    ReplyDelete
  17. लहरों की मत रफ़्तार देख |
    अपने बाजू हर बार देख |

    थमने की बातें भी न सोच,
    ठहरा है कब संसार देख |

    रिश्तों में प्रीत रही न आज,
    चलता है सब व्यापार देख |

    बहुत अच्छी रचना हबीब साहब..
    विसंगतियों को उजागर करते हुए.. प्रेरणा देती रचना..आभार..

    ReplyDelete
  18. aajkal ke halat ka sahi chitran bahut achhi lagi rachna

    ReplyDelete
  19. भाई आप विषय बहुत अच्छे से छाँटते हैं

    ReplyDelete
  20. करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |


    wah wah kabiletarif...........

    shukriya

    ReplyDelete
  21. रिश्तों में प्रीत रही न आज,
    चलता है सब व्यापार देख ...

    बहुत लाजवाब शेर है इस गज़ल का ... दार्शनिक अंदाज़ है ... जीवन का सच ...

    ReplyDelete
  22. रिश्तों में प्रीत रही न आज,
    चलता है सब व्यापार देख |
    mera fav.bahut sundar......

    ReplyDelete
  23. लहरों की मत रफ़्तार देख |
    अपने बाजू हर बार देख |

    हर शेर सच्चाई को कहता हुआ ... बहुत अच्छी गज़ल ..

    ReplyDelete
  24. एक बेहतरीन ग़ज़ल जो दिल के साथ दिमाग में भी जगह बनाती है।

    ReplyDelete
  25. करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |

    हत्यारे यां रहें बा चैन,
    लीला यह अपरम्पार देख |

    भूखे मेहनतकश ! धिक्कार!
    मौज में सब गुनहगार देख |

    In panktiyon mein prastut karara vyang bada pasand aaya.. Bahut khub...

    www.poeticprakash.com

    ReplyDelete
  26. रिश्तों में प्रीत रही न आज,
    चलता है सब व्यापार देख ।

    रिश्तों को भी व्यापार समझा जाता है अब।
    सही संदेश देती ग़ज़ल।

    ReplyDelete
  27. करता है ऐश लूट कर मुल्क,
    तिहाड़ में खुश गद्दार देख |

    waah,kya sher kaha aapne,
    bahut umda sir ji ...

    ReplyDelete
  28. वाह...
    बहुत ही बेहतरीन गजल है ...

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...