Tuesday, December 27, 2011

ग़ालिब (ग़ज़ल)

सम्माननीय मित्रों, आज उर्दू अदब की रोशन मीनार शायरे आजम असदउल्ला खां ग़ालिब की जयन्ती है. ग़ालिब सचमुच ग़ालिब थे, यानि सबको जीत लेने  वाले... उनके शान में बाअदब चंद अशआर कहने की गुस्ताखी (गुस्ताखी ही तो कही जायेगी) के साथ शायरी के शिखर को सलाम....


शायरे आजम रहे, वो शायरे उलफत रहे।
ठोकरों में रंज को रख, शायरे इशरत रहे।

शायरी की इंजिला वह इक खजाना हैं बलंद,
अगरचे खुद जिंदगी भर सरहदे गुरबत रहे।

धडकनों में रंग भरकर माह चुप हो छुप गया,
अर्श-ए-हसरत रहे, गालिब शबे फुरकत रहे।

जौक का था वह अहद पर कब अहद के साथ वो,
आप अपनी राह के हादी रहे किसमत रहे।

वो गजल, वो नज्म, वो किस्से-कहानी मौज के,
दोस्ती की, हौसलों  की, आदतो-फितरत रहे।

ना सितारों की कमी चरखे अदब में है 'हबीब',
पर
ना गालिब को पढ़े तो कल्ब में कुरवत रहे।

****************(बह्रे रमल २१२२/२१२२/२१२२/212 )*****************
इशरत = ख़ुशी | इंजिला = प्रकाशित | अर्श = आसमान | फुरकत = वियोग, विरह | अहद = युग | हादी = मार्गदर्शक | चरखे अदब = साहित्याकाश | कल्ब = ह्रदय  | कुरवत = क्लेष |
*****************************************************

22 comments:

  1. Agar ye gustakhi hai to hume to gustakhi pasand hai....

    Behtareen shabd prayog aur bhav...

    ReplyDelete
  2. गुस्ताखी पसन्द आई।

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर ...लाजबाब गुस्ताखी !

    ReplyDelete
  4. शायरी के शिखर को सलाम और आपको भी ..

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन संजय भाई

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर शेर हैं.

    आपकी प्रस्तुति अच्छी लगी.

    बार बार कीजियेगा ऐसी गुस्ताखी
    तो ग़ालिब जी जीवंत ही लगेंगें.

    मेरे ब्लॉग पर आईयेगा.
    वीर हनुमान बुलाते हैं.

    ReplyDelete
  7. इस ग़ज़ल को पढ़ कर मैं वाह-वाह कर उठा।
    आप तो अपनी हर प्रस्तुति के साथ चकित करते हैं।

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन ग़ज़ल....

    ReplyDelete
  9. bahut hi khub shandar sher kahe hai aapne 'galib' ki shan me.............haits off is prayas kje liye.

    ReplyDelete
  10. वो गजल, वो नज्म, वो किस्से-कहानी मौज के,
    दोस्ती की, हौसलों की, आदतो-फितरत रहे।
    waah

    ReplyDelete
  11. ना सितारों की कमी चरखे अदब में है 'हबीब',
    पर ना गालिब को पढ़े तो कल्ब में कुरवत रहे ...

    बहुत खूब हबीब जी ... आपका ये अंदाज़ बहुत ही लाजवाब लगा ... शायरों के शहंशाह को हमारा नमन ...

    ReplyDelete
  12. शायरे आजम रहे, वो शायरे उलफत रहे।
    ठोकरों में रंज को रख, शायरे इशरत रहे।

    ....सभी शेर लाज़वाब...बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  13. ग़ालिब साहब को समर्पित बहुत ही अच्छी पोस्ट..... सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  14. बेहद खूबसूरत गज़ल से गालिब की तस्वीर खींच दी , वाह !!!!!!!!!

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब! कुछ तो है ग़ालिब में जो उनके शब्द आज भी गूंज रहे हैं!

    ReplyDelete
  16. ना सितारों की कमी चरखे अदब में है 'हबीब',
    पर ना गालिब को पढ़े तो कल्ब में कुरवत रहे।
    एकदम सही । गालिब को ना पढने से बहुत बडी कमी रहेगी जिंदगी में ।

    ReplyDelete
  17. बहुत सुंदर प्रस्तुती ग़ालिब साहब समर्पित बेहतरीन रचना,.....
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाए..

    नई पोस्ट --"काव्यान्जलि"--"नये साल की खुशी मनाएं"--click करे...

    ReplyDelete
  18. सुन्दर भाव लिए रचना |
    बधाई |आशा

    ReplyDelete
  19. bahut sundar
    शायरी की इंजिला वह इक खजाना हैं बलंद,
    अगरचे खुद जिंदगी भर सरहदे गुरबत रहे।
    adab sanjay bhai ... bahut achhi pakad hai urdu pr ....man gye bhai.

    ReplyDelete
  20. धडकनों में रंग भरकर माह चुप हो छुप गया,
    अर्श-ए-हसरत रहे, गालिब शबे फुरकत रहे।
    ...
    वाह !
    मिर्ज़ा ग़ालिब पर कुछ लिखने की आप ही सोंच सकते हैं हबीब साहब !
    आपके हुनर, हौसले और जज्बे को सलाम !

    ReplyDelete
  21. ये गज़ल तो मेरे सर के ऊपर से ही निकल गयी ...फिर से पढूंगी :):)

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...