Sunday, October 2, 2011

बापू! न आना इस देश में...

सभी स्नेही गुनीजनों को सादर नमस्कार... आज बापू की १४६वीं जयंती है... उनका सादर पुन्य स्मरण.... आज जगह जगह पर अनेक कार्यक्रमों में बापू याद किये जा रहे हैं... एक दो कार्यक्रमों  में हिस्सा भी लिया... पर जाने क्यूँ भावनाओं का ज्वार भी भाव के अभाव को इंगित करता प्रतीत होता रहा... वापस आकर बापू को स्मरण कर कुछ लिखने बैठा ही था कि अभी एक रैली सामने से गुजरी गाते हुए... "बापू फिर आना इस देश में..." जाने क्यूँ भीतर विरोध मुखर सा हो गया... और लेखन की दिशा बदल गयी... बापू के प्रति असम्मान नहीं बल्कि वर्तमान परिदृश्य में अपने खिलाफ ही उपजा आक्रोश लिए... क्या मुह लेकर हम बापू का स्वागत करेंगे आज...? कुछ पंक्तियाँ मन में घुमड़ आईं, वही 'आन लाइन' प्रस्तुत हैं...
*
*

 
हर कदम पर धोखे यहाँ, बापू! न आना इस देश में.
किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

तुमने जीवन वार दिया, आज़ादी का उपहार दिया
अमूल्य नींव को जाने, हमने क्या व्यवहार दिया
देश तुम्हारा अब खडा है, कठिनतम, कलुषित परिवेश में.
किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

कितने अच्छे ख्वाब सजाकर, दिए थे तुमने कल के लिए 
जीने नहीं दिया उनको, हमी ने ही दो पल की लिए 
अपने स्वारथ सिद्ध किये हैं, दहका कर अग्नि देश में.
किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

तेरी मूरत के नीचे, बैठ करें हम भ्रष्टाचार 
शहीदों का सद्पुन्य प्रयास, लगता लोकतंत्र लाचार
उलझा उलझा पलता है, संकीर्णता और क्लेश में.
किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

हर कदम पर धोखे यहाँ, बापू! न आना इस देश में.


**************


24 comments:

  1. अथ आमंत्रण आपको, आकर दें आशीष |
    अपनी प्रस्तुति पाइए, साथ और भी बीस ||
    सोमवार
    चर्चा-मंच 656
    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. त्रस्त मन की सटीक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. बापू आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं, जितने कल थे। इन सब अवमूल्यन का कारण ही है कि हम उनके दिखाए मार्ग और बताए आदर्शों से भटक गये हैं।

    ReplyDelete
  4. सार्थक और सटीक अभिव्यक्ति ......

    ReplyDelete
  5. शुभकामनाएं||
    बहुत ही बढ़िया ||
    बधाई |

    ReplyDelete
  6. तेरी मूरत के नीचे, बैठ करें हम भ्रष्टाचार
    शहीदों का सद्पुन्य प्रयास, लगता लोकतंत्र लाचार
    उलझा उलझा पलता है, संकीर्णता और क्लेश में.
    किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

    बहुत ही सार्थक रचना हबीब साहब.. बिलकुल सही कहते हैं आप.. आभार !

    ReplyDelete
  7. तेरी मूरत के नीचे, बैठ करें हम भ्रष्टाचार
    शहीदों का सद्पुन्य प्रयास, लगता लोकतंत्र लाचार
    उलझा उलझा पलता है, संकीर्णता और क्लेश में.
    किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

    बहुत ही सार्थक रचना हबीब साहब.. बिलकुल सही कहते हैं आप.. आभार !

    ReplyDelete
  8. बिलकुल सही कहा.. सटीक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  9. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और यशस्वी प्रधानमंत्री रहे स्व. लालबहादुर शास्त्री के जन्मदिवस पर उन्हें स्मरण करते हुए मेरी भावपूर्ण श्रद्धांजलि!
    इन महामना महापुरुषों के जन्मदिन दो अक्टूबर की आपको बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  10. हबीब जी , वर्तमान परिदृश्य में आपकी सोच बिल्कुल सही है.मनोज जी ने कारण भी सटीक बताया है.आपकी कलम ने हर भारतीय की छटपटाहट को अभिव्यक्ति दी है.सार्थक रचना.

    ReplyDelete
  11. यथार्थ का भावपूर्ण चित्रण

    ReplyDelete
  12. bapu ne khud hi kaan band ker liya hai, aankhen band ker li hain , munh band ker liya....

    ReplyDelete
  13. बापू हैं तो आना ही होगा चाहे हम कितने भी गिर जाएँ…

    ReplyDelete
  14. तेरी मूरत के नीचे, बैठ करें हम भ्रष्टाचार
    शहीदों का सद्पुन्य प्रयास, लगता लोकतंत्र लाचार
    उलझा उलझा पलता है, संकीर्णता और क्लेश में.
    किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

    हर कदम पर धोखे यहाँ, बापू! न आना इस देश में.


    यथार्थ का काव्यमय सुन्दर वैचारिक प्रस्तुतिकरण...आभार.

    ReplyDelete
  15. प्रिय संजय मिश्र हबीब भाई बातें सटीक हैं व्यंग्य का पुट कटाक्ष ...सुन्दर ...सच में देश की यही हाल है ....बापू से किसी का भी जीना दूभर
    बधाई आप को लाजबाब ...
    धन्यवाद और आभार ..अपना स्नेह और समर्थन दीजियेगा
    भ्रमर ५

    देश तुम्हारा अब खडा है, कठिनतम, कलुषित परिवेश में.
    किस पर विश्वास करोगे, रावन है विभीषण वेश में...

    ReplyDelete
  16. जब ह्रदय चीत्कार करता है तो ऐसी ही कामना उठती है...अति सुन्दर.

    ReplyDelete
  17. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  18. बिल्‍कुल सही कहा है आपने ..सार्थक व सटीक लेखन ।

    ReplyDelete
  19. सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ शानदार रचना लिखा है आपने ! तस्वीर बहुत बढ़िया लगा! उम्दा प्रस्तुती!

    ReplyDelete
  20. तेरी मूरत के नीचे, बैठ करें हम भ्रष्टाचार

    ....यही तो आज की विडम्बना है..बहुत सटीक और प्रभावी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  21. vibheeshan ne to fir bhi dharam ka sath de kar saty ko pooja tha...lekin ye vebheeshan roopi ravan to na to dharam ke pujari hain, na saty ka sath dete hain na apni antaraatma ki aawaz sunte hain.

    prabhavi prastuti.

    ReplyDelete
  22. बहुत ही अच्‍छा लिखा है आपने ......सार्थक व सटीक.....

    ReplyDelete
  23. बापू इधर आनाईच मत बाप बोले तो तुम्हारा हार्ट टूटॆला हो जाइंगा

    ReplyDelete
  24. जोरदार रचना -सचमुच विषाद पूर्ण स्थिति है

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...