Sunday, December 18, 2011

आह!

तेरी सूखी यादों के
photo taken with thanks from google & edited
तिनके चुन चुन कर
बनाया एक घर
बैठकर उसके भीतर
गाने लगा नज़्म मुहब्बत की
कि उट्ठेन्गी लपटें...
मुझे भी कर देंगी भस्म
साथ साथ घर के....

लेकिन मेरी आवाज में
कुकनुस* वाली बात कहाँ?
कि जल उट्ठे आग...

मुझे तो जीना होगा
उस चकोर की तरह
जो ठंडी चांदनी में
जलता तो उम्र भर
भस्म नहीं होता जल कर....!!!
_________________________
कुकनुस = (काल्पनिक यूनानी पक्षी) जिसके बारे में कहा जाता है कि वह बहुत मधुर स्वर में गाता है, और उसके गाने से घोंसले में आग लग जाती है... वह जल कर भस्म हो जाता है.
___________________________

33 comments:

  1. कुकनुस के बारे में पहली बार पता चला ... सुन्दर प्रस्तुति ..

    ReplyDelete
  2. ख़ूबसूरत चित्र और प्यारी रचना! कुकनुस के बारे में नयी जानकारी मिली!
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. बेजोड़ रचना ... मन खुश हो गया . कुकनुस पक्षी के विषय में जाना ... कितने सारे रहस्य हैं

    ReplyDelete
  4. bahut bhaav pravan rachna.kuknus ke vishya me pahli bar jana.

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन सुन्दर प्रस्तुति, साथ ही बहुत ही रोचक जानकारी दी आपने.
    My Blog: Life is Just a Life
    My Blog: My Clicks
    .

    ReplyDelete
  6. कुकुनुस की जानकारी मिली ...........रचना भी बहुत सुंदर है

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  8. बेमिसाल रचना .... कुछ नयी जानकारी दे गयी..... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  9. एक उत्तम कविता।

    ReplyDelete
  10. बहुत गहन भाव ..मन को छूते हुए ...
    बेहतरीन प्रस्तुति ...!!
    शुभकामनायें...

    ReplyDelete
  11. बहुत खुबसूरत अहसास हैं कुकनुस के बारे में बताने के लिए आभार |

    ReplyDelete
  12. गहन भावों के साथ बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    ReplyDelete
  13. कुकनुस के बारे में तो पता ही नहीं था .....बहुत सुन्दर वर्णन किया है आपने

    ReplyDelete
  14. mishra ji aap ne aah likha hai lekin padhane ke mere muh se Vah nikala hai .... badhai.

    ReplyDelete
  15. मुझे तो जीना होगा
    उस चकोर की तरह
    जो ठंडी चांदनी में
    जलता तो उम्र भर
    भस्म नहीं होता जल कर....

    वाह , एकदम नई approach.

    ReplyDelete
  16. मुझे तो जीना होगा
    उस चकोर की तरह
    जो ठंडी चांदनी में
    जलता तो उम्र भर
    भस्म नहीं होता जल कर....!!!

    ...बहुत खूब! लाज़वाब प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  17. कुक्नुस के आत्मदाह के बारे में पहली बार जाना. सूखी यादों का नीड़..... चकोर अपने एक तरफा प्यार में ठंडी चाँदनी में तमाम उम्र जलता रहा, वाह !!!
    पक्षियों में प्रेम और पक्षियों से प्रेम.......

    ReplyDelete
  18. बाया का घोंसला, कुकनुस की बातें - वाह क्या मंज़रकशी है संजय भाई, बहुत खूब

    ReplyDelete
  19. काकनूस की जानकारी के लिए आभार सुंदर रचना,....

    मेरी नई पोस्ट की चंद लाइनें पेश है....

    आफिस में क्लर्क का, व्यापार में संपर्क का.
    जीवन में वर्क का, रेखाओं में कर्क का,
    कवि में बिहारी का, कथा में तिवारी का,
    सभा में दरवारी का,भोजन में तरकारी का.
    महत्व है,...

    पूरी रचना पढ़ने के लिए काव्यान्जलि मे click करे

    ReplyDelete
  20. घायल की गति घायल जाने।

    ReplyDelete
  21. वाह कुकनुस की दाद देनी होगी उसे मालूम है कि वह फ़ना हो जायेगा फिर भी गाता है ...
    सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  22. ऐसी आग पैदा करनी होगी कुक्नुस की तरह जो अपने जलने की परवा भी न करे ... लाजवाब लिखा है संजय जी ...

    ReplyDelete
  23. बेहतरीन नज़म...वाह

    नीरज

    ReplyDelete
  24. मुझे तो जीना होगा
    उस चकोर की तरह
    जो ठंडी चांदनी में
    जलता तो उम्र भर
    भस्म नहीं होता जल कर....!!!


    waah!....kya baat hai!!

    behtareen abhivyakti

    ReplyDelete
  25. प्रकृति और भावनाओं का बेजोड़ संगम ....बहुत सुन्दर कविता

    ReplyDelete
  26. बहुत खूब! लाज़वाब प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  27. मुझे तो जीना होगा
    उस चकोर की तरह
    जो ठंडी चांदनी में
    जलता तो उम्र भर
    भस्म नहीं होता जल कर..
    sundar rachna....

    ReplyDelete
  28. वाह वाह...
    बहुत सुन्दर..
    सादर.

    ReplyDelete
  29. जलता तो उम्र भर..बहुत सुन्दर |

    ReplyDelete
  30. क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
    मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
    http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
    http://seawave-babli.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. मुझे तो जीना होगा
    उस चकोर की तरह
    जो ठंडी चांदनी में
    जलता तो उम्र भर
    भस्म नहीं होता जल कर....!!!

    mujhe bhi Habeeb Sahab .....mujhe bhi waise hi jeena hoga..
    kahan se le ayae hain itna dard aap ? ufff.

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...