Saturday, September 3, 2011

गुरु वंदना

समस्त सम्माननीय मित्रों का सादर अभिनन्दन करते हुए  ५ सितम्बर "शिक्षक दिवस" के अवसर पर राष्ट्र निर्माताओं/गुरुजनों को  सादर समर्पित  "भाव सुमन" .
*
आज तिमिरों में निःशंक हो 
अपने  कदम बढाऊँ मैं.
अति असीम गुरु की अनुकम्पा 
सादर शीश नवाऊँ मैं. 

राह-कुराह और सत्यासत्य का,
भेद बतलाया किये;
नीतानीति संग हानि-लाभ का,
मर्म सिखलाया किये;
अब हो  ऋणी आजन्म जग में,
उनके ही पद गाऊँ मैं...
अति असीम गुरु की अनुकम्पा 
सादर शीश नवाऊँ मैं.

शीश में शुभ - आशीष  उनका,
साथ शक्ति है मेरी;
सदशिक्षाएं  करती उनकी,
निष्कंटक राहें मेरी;
एक कामना है ह्रदय में
सच्चा शिष्य कहाऊँ मैं...
अति असीम गुरु की अनुकम्पा 
सादर शीश नवाऊँ मैं. 

**************************************
शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
**************************************


26 comments:

  1. अति असीम गुरु की अनुकम्पा
    सादर शीश नवाऊँ मैं.... sundar prstuti...

    ReplyDelete
  2. शीश में शुभ - आशीष उनका,
    साथ शक्ति है मेरी;
    सदशिक्षाएं करती उनकी,
    निष्कंटक राहें मेरी;
    एक कामना है ह्रदय में
    सच्चा शिष्य कहाऊँ मैं...
    अति असीम गुरु की अनुकम्पा
    सादर शीश नवाऊँ मैं.
    guru ko naman ... bahut sahi abhivyakti

    ReplyDelete
  3. श्रद्धापूरित गुरु वंदना।

    गुरुओं को सादर नमन।

    ReplyDelete
  4. गुरुओं के प्रति श्रद्धा सुमन ... भावपूर्ण वंदना

    ReplyDelete
  5. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. एक कामना है ह्रदय में
    सच्चा शिष्य कहाऊँ मैं...
    अति असीम गुरु की अनुकम्पा
    सादर शीश नवाऊँ मैं.


    निश्छल ह्रदय की कोमल ..सुंदर प्रार्थना ...!!
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ..

    ReplyDelete
  7. गुरु वंदना की एक बेमिसाल प्रस्तुति

    ReplyDelete
  8. राह-कुराह और सत्यासत्य का,
    भेद बतलाया किये;
    नीतानीति संग हानि-लाभ का,
    मर्म सिखलाया किये;
    अब हो ऋणी आजन्म जग में,
    उनके ही पद गाऊँ मैं...
    अति असीम गुरु की अनुकम्पा
    सादर शीश नवाऊँ मैं.

    गुरू चरणों में मेरी कोटिश वन्दना!!

    ReplyDelete
  9. गुरु की अनुकम्पा सदैव बनी रहे। बहुत सुन्दर वंदना।

    ReplyDelete
  10. निश्छल ह्रदय की कोमल ..सुंदर प्रार्थना ...!!
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ..गुरू चरणों में कोटि-कोटि नमन

    ReplyDelete
  11. आप को भी शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं......

    ReplyDelete
  12. हिंदी पर आपके असाधारण अधिकार ने मंत्र-मुग्ध कर दिया.उत्कृष्ट कलम के नशे से ऊबरूँ तब ही तो कुछ् कह सकूँगा. अभी तो इसी आनंद से सागर में गोते लागाते रहने दीजिये. शिक्षक दिवस की शुभकामनायें. असाधारण रचना.

    ReplyDelete
  13. सभी गुरुओं को प्रणाम!

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर वंदना । शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं |

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी सुन्दर भावपूर्ण अभिव्यक्ति |बधाई शिक्षक दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  16. सभी आदरणीय गुरुजनों को नमन .....

    ReplyDelete
  17. Guru ki puja hi mein samrpan haen ....guru ko naman ....

    ReplyDelete
  18. भावपूर्ण वंदना ...........

    ReplyDelete
  19. हबीब साहब ! बहुत ही अच्छी रचना की है आपने... आभार..
    विशेष आभार हमारे ब्लॉग पर आकर प्रोत्साहन देने के लिए.. फुर्सत में आते रहिएगा...

    ReplyDelete





  20. प्रियवर संजय जी
    सस्नेहाभिवादन !


    पूरी श्रद्धा के साथ आपने शिक्षकदिवस पर गुरू-स्मरण किया है
    एक कामना है ह्रदय में
    सच्चा शिष्य कहाऊँ मैं...
    अति असीम गुरु की अनुकम्पा
    सादर शीश नवाऊँ मैं.


    आपको भी शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं !

    एक दोहा मेरी ओर से भी सादर
    मात्र समर्पण से मिले , गुरुजन की आशीष !
    हाथ जोड़' रख दीजिए , गुरु - चरणों में शीश !!


    आपको सपरिवार
    बीते हुए हर पर्व-त्यौंहार सहित
    आने वाले सभी उत्सवों-मंगलदिवसों के लिए
    ♥ हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !♥
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  21. सुन्दर गुरु वंदना.

    ReplyDelete
  22. गुरुओं को सादर वंदन - बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  23. सुंदर प्रार्थना ...!!
    संजय जी

    ReplyDelete
  24. गुरू गोविंद दोऊ खड़े काके लागू पाउ बलिहारी नेताजी की चरण दियो बढ़ाये

    ReplyDelete

मेरी हौसला-अफजाई करने का बहुत शुक्रिया.... आपकी बेशकीमती रायें मुझे मेरी कमजोरियों से वाकिफ करा, मुझे उनसे दूर ले जाने का जरिया बने, इन्हीं तमन्नाओं के साथ..... आपका हबीब.

"अपनी भाषा, हिंदी भाषा" (हिंदी में लिखें)

एक नज़र इधर भी...